Logo text

होम » कार्यक्रम » पीजीपी » कैरियर प्रभाव » प्रशंसापत्र

 छात्रों के प्रशंसापत्र

       "यूनिलीवर में, मैंने दुनिया के विभिन्न हिस्सों के पुरुषों और महिलाओं वाले कई अंतरराष्ट्रीय कार्यसमूहों और टीमों के साथ बातचीत की और काम किया। आइ आइ एम-ए के अनुभव से जहाँ मैंने विभिन्न पृष्ठभूमि, हितों, और प्रतिभा वाले लोगों के साथ मिलकर साथ-साथ काम किया। उन्होंने मुझे अपने कार्य जीवन में विभिन्न सांस्कृतिक परिवेश में सफल होने के लिए तैयार किया है। मैंने विविधता की सराहना करना और प्रबंधन की चुनौतियों पर काबू पाने के लिए आवश्यक महत्वपूर्ण पारस्परिक कौशल सीखा है। समग्र विकास को बढ़ावा देते हुए, आइ आइ एम-ए वास्तव में छात्रों को वैश्विक प्रबंधक बनने के लिए आवश्यक कौशल से मानसिक रूप से तैयार करने का प्रयास करता है। "                                                                               

एम.एस. बंगा (पीजीपी'77)

"मैंने जो कुछ भी हासिल किया है उसके एक बड़े हिस्से के लिए मैं आइ आइ एम-ए की ऋणी हूँ। इसने मुझे वित्त के कार्य, विशेष रूप से विश्लेषण और अनुसंधान में उत्कृष्टता के लिए आवश्यक ज्ञान और कौशल से लैस करने का एक बड़ा काम किया है। इन वर्षों में मैंने पाया है कि ये कौशल आई सी आई सी आई में मेरी अलग-अलग जिम्मेदारियों को निभाने में अमूल्य रहे हैं। आइ आइ एम-ए न केवल अपने छात्रों को कौशल का शस्त्रागार देता है, बल्कि यह उनमें कहीं भी सबसे अच्छा होने का आश्वासन भी विकसित करता है। यह अंतिम विश्लेषण में, परम विश्वास बढ़ाने वाली बात है।"

शिखा शर्मा (पी जी पी'80)

“मैं आइ आइ एम-ए को दो बातों के लिए प्यार से याद करता हूँ -  मुझे जीवन पर और व्यापार पर एक समग्र दृष्टिकोण देने के लिए और मुझे अत्यधिक कुशल व्यक्तियों से मिलाने के लिए, जिनमें से कई आज भी मेरे प्यारे दोस्त हैं। आइ आइ एम-ए ने मुझे मेरे एक इंजीनियर की "सुरंग" दृष्टि त्यागने में मदद करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है । जिस तरह से कंपनियाँ सफल और असफल होती है, उस तरह से स्थायी रुचि जाग्रत की। निवेश आज मेरा जुनून है, और जब संस्थान में इस विषय पर 90 के दशक की शुरूआत में कोई भी पाठ्यक्रम नहीं था, इसने निश्चित रूप से मेरे निर्माण के लिए एक शानदार मंच बनाया था।”

पुलक प्रसाद (पी जी पी'92)