Logo text

होम » कार्यक्रम » पीजीपी-एबीएम » प्रोग्राम

प्रोग्राम

सामान्य प्रवेश परीक्षा (कैट) 2010 की वेब साइट को आज अद्यतन किया गया है। कैट विज्ञापन आज 22 अगस्त 2010 को प्रकाशित हुआ है। कैट परीक्षा तिथियों के लिए www.catiim2010.com साइट पर जाएँ।

कृषि व्यवसाय प्रबंधन में स्नातकोत्तर प्रोग्राम (पीजीपी-एबीएम)

दो साल के कृषि व्यापार में स्नातकोत्तर प्रोग्राम प्रबंधन (पीजीपी-एबीएम) का डिजाइन भोजन, ग्रामीण तथा संबंधित क्षेत्रों से उत्पन्न बढ़ती चुनौतियों से निपटने के लिए गतिशील और समर्पित व्यक्तियों को उनकी क्षमताओं पर अद्वितीय को उत्कृष्ट प्रबंधकों में बदलने के लिए किया गया है।

 

पात्रता

(1)         उम्मीदवार के पास भारत में केंद्रीय या राज्य विधानसभा अधिनियम द्वारा निगमित विश्वविद्यालयों या संसद के एक अधिनियम द्वारा स्थापित अन्य शिक्षण संस्थानों या विश्वविद्यालय अनुदान आयोग अधिनियम, 1956 की धारा 3 के तहत घोषित विश्वविद्यालय की कम से कम 50% अंक के साथ कृषि विज्ञान में या कृषि से संबंधित विषयों में स्नातक या स्नातकोत्तर की डिग्री या समकक्ष सीजीपीए (अनुसूचित जाति (एससी) / अनुसूचित जनजाति (एसटी) और विशिष्टतया योग्य श्रेणी (डीए) से संबंधित उम्मीदवारों के मामले में यह 45 % है), या भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा मान्यता प्राप्त समकक्ष योग्यता हो। उम्मीदवार द्वारा प्राप्त स्नातक की डिग्री या समकक्ष योग्यता उच्चतर माध्यमिक (10 +2) शिक्षा या समकक्ष पूरा करने के बाद न्यूनतम तीन वर्ष की शिक्षा आवश्यक होगी।

या

(2)         उम्मीदवार के पास उपर के पैराग्राफ में परिभाषित विश्वविद्यालय या संस्थान से किसी भी गैर-कृषि विषय में कम से कम स्नातक डिग्री या समकक्ष योग्यता होनी चाहिए और कृषि, कृषि/खाद्य प्रसंस्करण, ग्रामीण और संबद्ध क्षेत्रों में रुचि रखना चाहिए। उम्मीदवार द्वारा प्राप्त स्नातक की डिग्री या समकक्ष योग्यता उच्चतर माध्यमिक (10 +2) शिक्षा या समकक्ष पूरा करने के बाद न्यूनतम तीन वर्ष की शिक्षा आवश्यक होगी।

प्राप्त प्रतिशत की गणना के लिए और अर्हक परीक्षा के अंतिम वर्ष में भाग लेने वाले उम्मीदवारों के लिए सीजीपीए के रूपांतरण के नियम वही होंगे जो सभी आईआईएम के लिए पीजीपी में प्रवेश के लिए न्यूनतम पात्रता मानदंड में उपर्युक्त वर्णित हैं । जो छात्र अपनी स्नातक की डिग्री शिक्षा के अंतिम वर्ष में हैं और  जून 2011 के दौरान अपनी परीक्षा औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए वापस जाने के लिए विशेष छुट्टी दी जाएगी। कृपया www.catiim.in को और आइआइएमए प्रोग्राम विवरण में (url: http://202.41.76.11/download/IIMAProfile.pdf) देखें। 30 जून 2011 तक अपनी सभी परीक्षा औपचारिकता को पूरा नहीं करने वाले छात्रों का अंतिम प्रवेश रद्द कर दिया जाएगा। किसी भी परिस्थिति में 30 जून 2011 की तारीख को आगे नहीं बढ़ाया जाएगा।

आपको 31 दिसंबर, 2011 तक स्नातक डिग्री/समकक्ष पास करने के बारे में अंक सूची और और प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा। उनके प्रवेश की पुष्टि तभी की जाएगी जब उम्मीदवार प्रधान/रजिस्ट्रार द्वारा जारी प्रमाणपत्र में निर्दिष्ट अंक सूची और स्नातक की डिग्री / समकक्ष योग्यता कम से कम 50% अंक (अनुसूचित जाति / जनजाति / डीए श्रेणी से संबंधित उम्मीदवारों के मामले में 45%) पास कर लेने का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करेंगे । किसी भी परिस्थिति में अंक सूची और प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने के लिए समय सीमा 31 दिसंबर 2011 को आगे नहीं बढ़ाया जाएगा।

साक्षात्कार समिति द्वारा प्रिपरेटरी (तैयारी) प्रोग्राम में भाग लेने के तय किए गए छात्रों से प्रोग्राम में भाग लेने की आशा है जो मई 2011 के अंत में शुरू होगा। प्रिपरेटरी प्रोग्राम में गणित, संचार और सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विशेष जानकारी प्रदान की जाती है, और पीजीपी-एबीएम प्रोग्राम के पहले वर्ष करने के लिए छात्रों को स्वयं को तैयार करने के लिए सक्षम करने के लिए बनाया गया है। (जो छात्र अपनी स्नातक की डिग्री शिक्षा के अंतिम वर्ष में हैं और जून के दौरान अपनी परीक्षा औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए वापस जाने की जरूरत है उन्हें तैयारी प्रोग्राम से विशेष छुट्टी दी जाएगी)। प्रथम वर्ष का पाठ्यक्रम अनिवार्य है और पीजीपी के जैसा ही है। इसके अलावा, छात्रों को क्षेत्रीय पर्यावरण के साथ परिचित कराने के लिए ग्रामीण पर्यावरण और संस्थाओं पर एक विशेष पाठ्यक्रम बनाया गया है। पहले वर्ष के अंत के बाद, छात्रों को ग्रामीण विसर्जन मॉड्यूल के पहले चरण से गुजरना होगा और बाद में, कृषि व्यवसाय में लगे संगठन में ग्रीष्मकालीन आठ सप्ताह तक चलने वाले कार्य में भाग लेना होगा।

प्रोग्राम के दूसरे वर्ष के लिए योजना, निर्णय लेने, आयोजन और इस क्षेत्र में और इसके उप क्षेत्रों में कार्यान्वयन में उत्कृष्टता के लिए कृषि व्यवसाय के प्रबंधकों के लिए आवश्यक विशेष बहुआयामी ज्ञान और अभिनव कौशल प्रदान करने के लिए बनाया गया है। दूसरे वर्ष के पाठ्यक्रम छात्रों की विशेष रुचि के क्षेत्रों को आगे बढ़ाने का अवसर भी प्रदान करते हैं। दूसरे वर्ष में कृषि व्यवसाय प्रबंधन अनिवार्य पाठ्यक्रम, सामान्य प्रबंधन में कुछ अनिवार्य पाठ्यक्रम, और वैकल्पिक पाठ्यक्रम में शामिल हैं।

 

डिप्लोमा

पीजीपी-एबीएम को स्नातक को कृषि व्यवसाय प्रबंध में स्नातकोत्तर डिप्लोमा प्रदान किया जाता है।

 

नियुक्ति

पीजीपी-एबीएम स्नातकों को कृषि व्यापार, खाद्य, कृषि और संबंधित क्षेत्रों में लगे संगठनों में उपयुक्त रिक्तियों को खोजने में सहायता प्रदान की जाएगी। खुदरा प्रबंधन, लघु वित्त, कृषि इनपुट कंपनियों, खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों, ग्रामीण विपणन, अंतर्राष्ट्रीय कृषि व्यापार, कमोडिटी एक्सचेंजों, ग्रामीण वित्तीय संस्थानों, कृषि व्यवसाय में बाजार अनुसंधान और ग्रामीण विकास में लगे गैर सरकारी संगठनों जैसे उभर रहे कृषि व्यवसाय के क्षेत्र में कैरिअर के लिए बेहतरीन अवसर उपलब्ध हैं।

 

प्रवेश/चयन प्रक्रिया

पीजीपी-एबीएम के लिए चयन दो चरण वाली प्रक्रिया के माध्यम से किया जाता है। पहले चरण में, आइआइएम-ए के स्नातकोत्तर प्रोग्राम के लिए आवेदन करने वालों में से शार्ट-लिस्ट किए उम्मीदवारों को समूह चर्चा और व्यक्तिगत साक्षात्कार के लिए बुलाए जाता है। शार्ट-लिस्टिंग के लिए प्रयुक्त वास्तविक कटौती कैट 2010 में उम्मीदवारों के प्रदर्शन पर निर्भर करती है। समूह चर्चा और व्यक्तिगत साक्षात्कार के लिए शार्ट-लिस्टिंग करते समय, जिन श्रेणियों के लिए सीटें आरक्षित हैं उनसे संबंधित उम्मीदवारों अलग तरीके से किया जाता है।

 

दूसरे चरण में, पीजीपी-एबीएम में भर्ती के लिए समूह चर्चा और व्यक्तिगत साक्षात्कार में भाग लिये उम्मीदवारों में से चुना जाता है। यह प्रवेश सूची तैयार करने में, समूह चर्चा और व्यक्तिगत साक्षात्कार में प्रदर्शन, कैट स्कोर, प्रोग्राम के लिए रुचि और पृष्ठभूमि के संदर्भ में उपयुक्तता, (यह देखते हुए कि यह एक क्षेत्र विशेष प्रोग्राम है), शैक्षिक प्रोफ़ाइल और उपलब्धियों, अतिरिक्त पाठयक्रम गतिविधियों, और डिग्री के बाद कार्य अनुभव और इसकी प्रासंगिकता की जानकारी को ध्यान में रखा जाता है।