Logo text

होम » कार्यक्रम » पीजीपी-एबीएम » अध्यक्ष का संदेश

अध्यक्ष का संदेश

कृषि व्यवसाय प्रबंधन में आईआईएम-अहमदाबाद द्वारा प्रस्तुत दो वर्षीय स्नातकोत्तर कार्यक्रम एक अद्वितीय कार्यक्रम है और इस संस्थान से उत्तीर्ण होकर गये छात्र कृषि-व्यवसाय एवं उभरते खाद्य विपणन की जरूरतों को निपटाने हेतु कॉरपोरेट सेक्टरों में कार्यरत हैं। दिसम्बर 2011 में इस कार्यक्रम को पेरिस, फ़्रान्स के एक संगठन एड्यूनिवर्सल, द्वारा विश्व रैंकिंग में प्रथम स्थान का दर्जा प्रदान किया गया है।

पाठ्यक्रम के उद्देश्य

कृषि-व्यवसाय प्रबंधन में स्नातकोत्तर कार्यक्रम (पीजीपी-एबीएम) का उद्देश्य उच्चतम अंतरराष्ट्रीय मानकों, और उसकी उच्च गुणवत्ता तथा वास्तविक जगत् के प्रति उसकी सीधी प्रासंगिकता पूर्ण हो यह सुनिश्चित करना है। अधिकतम बाजारोन्मुख वातावरण में बढ़ती हुई पर्यावरणीय चिंताएँ और काम करने की चुनौतियों में कृषि-खाद्य उद्योग को नीतियों में परिवर्तनों और उन परिवर्तनों का प्रबंधन करने के उत्तरदायित्व में गतिशील बनाना है। नवीन कौशलों के साथ-साथ, इस उद्योग में कार्य कर रहे लोगों में प्रबंधन कौशलों की एक श्रृंखला, नीतिगत पर्यावरण से परिचितता, और एक रणनीतिक दृष्टिकोण, इत्यादि से यह पीजीपी-एबीएम कार्यक्रम छात्रों को इस गतिशील उद्योग में मुख्य परिवर्तन के दुरूह कार्य के लिए और उन परिवर्तनों की प्रक्रिया का प्रबंध करने के लिए तैयार करता है। संकाय, कर्मचारियों, पूर्वछात्रों और कॉरपोरेट भागीदारों के एक सशक्त सम्मिश्रण के साथ एकसाथ कार्य करते हुए व्यवसाय शिक्षा में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए यह कार्यक्रम सर्वोत्तम है कि जिससे कृषि-व्यवसाय में अनंत संभावनाओं को खोज निकालने के मामले में उत्तम पेशकश होती है। यह कार्यक्रम छात्रों को कृषि-व्यवसाय मूल्य श्रृंखला के लिए तैयार करता है जबकि विशेष रूप से निम्नानुसार के प्रयास करता है : 

  • प्रबंधकीय निर्णय निर्माण तथा कृषि-व्यवसाय के अद्वितीय संदर्भ में कार्यान्वयन के लिए सामाजिक उद्देश्य की समझ के साथ-साथ आवश्यक वैचारिक एवं पारस्परिक कौशलों से छात्रों को सुसज्जित करता है।
  • कृषि-व्यवसाय क्षेत्र के अंतर्गत एक सफल व्यवसायी बनाने के लिए छात्रों में कृषि-उद्यम को बढ़ावा देता है।
  • छात्रों को परिवर्तनों के प्रति अनुकूलन में सक्षम बनाते हुए, उनमें नेतृत्व क्षमताएँ विकसित करता है और जिन संगठनों में वे कार्य करते हैं उनको प्रेरित करता है।
  • छात्रों का दृष्टिकोण व्यापक बनाता है और उनमें व्यावसायिकता, अखंडता, नैतिकता, और उनमें सामाजिक प्रतिबद्धता के मूल्यों को पैदा करता है।

अनिवार्य रूप से यह कार्यक्रम भारत में और विश्व में कृषि-व्यवसाय प्रस्तुतियों की अपार क्षमता का लाभ उठाने और नेतृत्व करने के लिए छात्रों को प्रशिक्षित करता है।