Logo text

होम » संस्थान » आईआईएम-ए के बारे में » आर्थिक प्रभाव » प्रशंसापत्र

प्रशंसापत्र 

आइआइएम-ए भारत में प्रबंधन शिक्षा में प्रतिष्ठित, उच्च चयनात्मक, अग्रणी है। इसके संकाय और अनुसंधान को शैक्षणिक और आर्थिक दुनिया के द्वारा व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त हैं। इसके पूर्व छात्रों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शीर्ष आर्थिक पदों और उच्च सार्वजनिक जिम्मेदारियों पर बुलाया जाता है, और दुनिया भर के कई विश्वविद्यालयों में प्रबंधन में प्रतिष्ठित पीठो पर आसीन हैं।
- महामहिम श्री डोमिनिक गिरार्ड, भारत में फ्रांस के राजदूत, 2006

जबकि भारत बुनियादी सुविधाओं और बिजली जैसे स्थूल कारकों के संदर्भ में चीन और कई अन्य देशों से पीछे है, लेकिन इसके पास वैश्विक व्यापार के निर्माण और नेतृत्व के लिए विश्व स्तर के सक्षम अधिकारियों के साथ सूक्ष्म कारकों के संदर्भ में जीतने का फार्मूला है।

- स्कॉट बेमैन, अध्यक्ष और सीईओ, जीई इंडिया, 2006

बदलती आर्थिक स्थितियों और वैश्विक प्रतिस्पर्धा की गहनता ने प्रबंधन शिक्षा को व्यक्तियों और निगमों की सफलता में तेजी से एक केंद्रीय भूमिका दी है। प्रबंधन शिक्षा भारत में पिछले पंद्रह वर्षों में फैली है। प्रबंधन शिक्षा महत्वपूर्ण है क्योंकि केवल विकासशील प्रतिभा भारत को आगे ले सकती है।
- एस एल राव, अध्यक्ष, अध्ययन बोर्ड एआइएमए-सीएमई
- आर गोपालकृष्णन, अध्यक्ष, ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन

वास्तव में आईआईएम एक बहुत ही प्रतियोगी जगह है। मेरा अनुभव यह है कि प्रतिस्पर्धात्मक स्थल नेतृत्व को बढ़ावा देता है। नेता प्रतिस्पर्धात्मक जगह से बाहर आते हैं। आईआईएम-ए में सबसे अच्छे लोग आते हैं जिन्हें कक्षा में सर्वोत्तम शिक्षा प्रदान की जाती है और उसके बाद वह भारत में श्रेष्ठ नेतृत्व के साथ बाहर आता है।
- के वी कामथ एमडी और सीईओ, आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड