Logo text

होम » प्राध्यापक एवं अनुसंधान » संकाय भर्ती

संकाय भर्ती 

आई आई एम-ए एक ऐसी जगह है जहाँ करीब 90 पूर्णकालिक संकाय और उतनी ही संख्या में अंतरराष्ट्रीय मानकों के संकाय मिलकर पाठ्यक्रम पढ़ाते हैं, अनुसंधान करते हैं और परामर्श करते हैं। आई आई एम-ए एक अद्वितीय वातावरण बनाता है, जिससे संकाय कई अवसरों के माध्यम से अपने केरियर को आगे बढ़ाने का पूरा लाभ ले सकते हैं। यह संस्थान न केवल शिक्षण और अनुसंधान के लिए एक अनुकूल माहौल प्रदान करता है, बल्कि राष्ट्रीय सम्मेलनों में कई बार और अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों में साल में एक बार सक्रिय रूप से भाग लेने की सुविधा भी देता है। संस्थान का पुस्तकालय संसाधन प्रबंधन के क्षेत्र में एशिया में सबसे अच्छा है।

समय समय पर, संस्थान अध्यक्ष प्रोफेसर बनाने के लिए उद्योगों से स्थाई निधि अनुदान प्राप्त करता है। संस्थान एक पारदर्शी प्रक्रिया के माध्यम से इस अनुदान को अनुसंधान और/या शिक्षा में श्रेष्ठ व सर्जनात्मक योगदान करने वाले प्रतिष्ठित संकायों को इनाम तथा प्रोत्साहन के लिए देता है।
संस्थान के अध्यक्ष प्रोफेसर संस्थान के शैक्षिक योगदान को व्यवसायी प्रबंध के भारतीय संदर्भ में दाता संगठन के साथ परामर्श करके एक महत्वपूर्ण अनुसंधान कार्यक्रम का दायित्व निभाते है।

अनुसंधान कार्य के अलावा अध्यक्ष प्रोफेसर से लंबी और छोटी अवधि के कार्यक्रमों और परामर्श में शिक्षण जैसी संस्थान की अन्य गतिविधियों में भाग लेने की उम्मीद रखी जाती है।
वर्तमान में, प्रोफेसर रविंद्र धोलकिया आर बी आई अध्यक्ष हैं और प्रोफेसर अनिल गुप्ता कस्तुरभाई लालभाई प्रबंधन के अध्यक्ष हैं।

संस्थान निम्नलिखित में संकाय का स्वागत करता है:

क्षेत्र और समूह

व्यापार नीति संप्रेषणकम्प्यूटर और सूचना प्रणालीअर्थशास्त्रवित्त और लेखाविपणनसंगठनात्मक व्यवहारकार्मिक एवं औद्योगिक संबंधउत्पादन और मात्रात्मक पद्धतियाँ  • सार्वजनिक प्रणाली समूह 

अनुसंधान केन्द्र 

आर जे मथाई शैक्षिक नवाचार केंद्र (RJMCEI)  • ई-शासन केन्द्र (CEG)आई आई एम ए-आइडिया उत्कृष्टता  दूरसंचार केन्द्र कृषि प्रबंधन केन्द्र (सी एम ए) स्वास्थ्य सेवा प्रबंधन केन्द्र (CMHS)अभिनव, ऊष्मायन और उद्यमिता केन्द्र (CIIE)इंफ्रास्ट्रक्चर नीति और नियमन केन्द्र (CIPR)खुदरा व्यापार के लिए केन्द्र (सी एफ आर)लैंगिक संसाधन केन्द्र (जी आर सी)

आई आई एम-ए मास्टर्स और डॉक्टरेट स्तर के कार्यक्रम और कम अवधि के ‘संकाय विकास कार्यक्रम’ प्रदान करता है।

दो नए कार्यक्रम हाल ही में शुरू किये गये हैं:
पी जी पी एक्स - एक वर्ष के कार्यपालक स्नातकोत्तर प्रबंधन में डिप्लोमा के बाद पर्याप्त अनुभव के साथ अधिकारियों के लिए एक पूर्णकालिक आवासीय कार्यक्रम है। कार्यक्रम में सीमाओं और संस्कृतियों के पार सामान्य प्रबंधन पर जोर देने पर ध्यान केंद्रित किया है। पी जी पी-पी एम पी, प्रशासन और नीति निर्माण और कार्यान्वयन, वित्तीय विनियमन, बुनियादी सुविधा विकास, और सार्वजनिक उद्यम के प्रबंधन पर ज़ोर देते हुए सार्वजनिक प्रबंधन और नीति में पूर्णकालिक आवासीय कार्यक्रम है।

तेज़ी से हो रहे व्यवसाय के वातावरण में बदलाव से ताल मिलाने के लिए अपने ज्ञान और अंतर्दृष्टि उन्नयन की आवश्यकता के लिए संस्थान कार्यरत अधिकारियों के लिए भी कुछ कार्यकारी शिक्षा कार्यक्रम चलाता है। उद्योगों की सबसे अधिक प्रासंगिक जरूरतों को प्रतिबिंबित करते हुए सुरचित कार्यकारी शिक्षा कार्यक्रम (एम डी पी) शिक्षकों द्वारा चलाया जाता है।

संकाय पाठन पद्धति में भाग लेते हैं, वैयक्तिक / सामूहिक अनुसंधान करते हैं और परामर्श कार्य और कार्यकारी शिक्षा में शामिल होते है।

योग्यताएँ:
प्रोफेसर : पी-एच डी या अनुसंधान और प्रकाशनों का एक सफल ट्रैक रिकॉर्ड और 10 साल के लिए शिक्षण / अनुसंधान / औद्योगिक अनुभव, जिनमें से कम से कम 5 साल का सहायक / एसोसिएट प्रोफेसर के स्तर पर होना चाहिए।

एसोसिएट (सहभागी)प्रोफेसर : पी-एच डी या अनुसंधान और प्रकाशनों का एक सफल ट्रैक रिकॉर्ड और 8 वर्ष के लिए शिक्षण / अनुसंधान / औद्योगिक अनुभव हो, जिनमें कम से कम 3 साल के सहायक / एसोसिएट प्रोफेसर के स्तर पर काम किया हो।

सहायक प्रोफेसर : पी-एच डी या एक शानदार शैक्षिक पृष्ठभूमि के साथ पी-एच डी के बराबर अनुभव, हालाँकि वांछनीय है, पर आवश्यक नहीं है। जिसकी डॉक्टरेट की उपाधि पूर्णता पर हो वे भी आवेदन कर सकते हैं। ऐसे उम्मीदवार के लिए अतिथि नियुक्ति के लिए विचार किया जा सकता है जब तक कि वे औपचारिक रूप से डॉक्टरेट कार्यक्रम पूरा करें।
जिसके पास अपने उद्योग क्षेत्र में उत्कृष्ठ प्रतिभा है या खुद उत्कृष्ठ प्रबंधक है और ज्ञान के लिए अर्थपूर्ण योगदान दिया है, लेकिन उनके पास पी-एच डी की डिग्री नहीं है, उनके लिए भी नियुक्ति के लिए विचार किया जा सकता है।
उपरोक्त सभी पदों के लिए, निर्दिष्ट अवधि के लिए अनुबंध पर या अतिथि नियुक्ति पर विचार किया जाएगा। सेवानिवृत्ति की आयु 70 वर्ष तक फिर से रोज़गार उप्लब्ध होने की सुविधाओं के साथ 65 वर्ष है।

वेतन और अनुलाभ :
  • प्रोफेसर – रुपये का पे बैंड, 37400-67000 रू.10500 की एकेडमिक ग्रेड वेतन के साथ
  • एसोसिएट (सहभागी) प्रोफेसर : रुपये का पे बैंड 37400-67000 रू.9500 के शैक्षणिक 
  • सहायक प्रोफेसर – रुपये का पे बैंड, 15600-39100 रू.8000 के शैक्षणिक ग्रेड वेतन के साथ
इसके अलावा भारत सरकार के मानदंडों के अनुसार भत्ते और सेवानिवृत्ति लाभ। संकाय को संस्थान के मानदण्डों के अनुसार परामर्श करने की अनुमति दी है। नए संकाय परिसर में ही आवास पा सकते हैं।

 
  •