Logo text

होम » प्राध्यापक एवं अनुसंधान » क्षेत्र (एरिया) और समूह » कार्मिक एवं औद्योगिक संबंध

कार्मिक एवं औद्योगिक संबंध

 

क्षेत्र का प्रोफाइल
   
आई आई एम-ए का पी एंड आई आर क्षेत्र वर्तमान में विभिन्न विषयों से तैयार संकाय सदस्यों का बना हुआ है और मानव संसाधन विकास प्रबंधन, औद्योगिक संबंध, श्रम अर्थशास्त्र, श्रम विधान और औद्योगिक समाजशास्त्र के क्षेत्रों में नीहित है। इस क्षेत्र की गतिविधि में अनुसंधान, स्नातकोत्तर और डॉक्टरेट स्तर का शिक्षण, कार्यकारी विकास और परामर्श आदि शामिल हैं।

अनुसंधान गतिविधियाँ   

संकाय सदस्य अपने हित के क्षेत्रों में अनुभवजन्य के साथ साथ व्यवहारु अनुसंधान, दोनों का आरंभ करते हैं। यह क्षेत्र संस्थान के डॉक्टरेट स्तर के कार्यक्रम का समर्थन करता है, जहाँ छात्रों को विशिष्ट विषयों पर क्षेत्र काम करने के लिए और संस्थान की फैलो उपाधि पाने के लिए एक शोध प्रबंध लिखने के लिए समर्थन दिया जाता है। क्षेत्र संकाय सदस्य डॉक्टरेट स्तर के भाग लेने वाले छात्रों के लाभ के लिए आवश्यक पाठ्यक्रमों की पेशकश में अनौपचारिक सलाहकार के अलावा सलाहकार के रूप में भी फैलो कार्यक्रम के साथ जुड़े रहते हैं। इस क्षेत्र में चल रहे, हाल ही में पूरे हुए शोध निबंध में से कुछ शोध निबंध विलय के प्रति मानव संसाधन का प्रतिकार, आई टी प्रबंधकों के बीच कार्यकारी भूमिका योग्यता उपयोग के निर्धारकों, ज्ञान प्रबंधन और कर्मचारी प्रतिकार व्यवहार हैं।

व्यक्तिगत
संकाय सदस्य उनके हितों से संबंधित अनुसंधान का लक्ष्य रखते हैं, जो शिक्षणगत होने के साथ साथ शिक्षण के पार का भी होता है। वे सक्रिय रूप से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान नेटवर्क और व्यावसायिक निकायों के साथ जुड़े रहते हैं। अनुसंधान क्षेत्रों में से कुछ को वर्तमान में संकाय सदस्यों द्वारा अपनाया जा रहा है, वे इस प्रकार हैं:


एचआरएम(मानव संसाधन प्रबंधन) की दार्शनिक आधारशिला

सामरिक मानव संसाधन प्रबंधन

अंतरराष्ट्रीय और पार सांस्कृतिक मानव संसाधन(एचआर)

मानव संसाधन सूचना प्रणाली

प्रदर्शन प्रबंधन और उच्च प्रदर्शन कार्य संगठन

कार्यकारी अधिकारी प्रतिफल

प्रतिवर्तन प्रबंधन

व्यापार और वैकल्पिक विवाद समाधान में वार्ता

सार्वजनिक कार्मिक प्रबंधन

खंडवृत्त अध्ययन : एसएमई, स्टार्टअप कम्पनियाँ, आईटीईएस और लचीला कार्य संगठन

रोजगार संबंध

व्यवसाय में आचारशास्त्र

कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्त्व

इस क्षेत्र में मामला लेखन ऐसी दूसरी प्रवृत्ति है, जो सभी संकाय सदस्यों द्वारा आचरण में लायी जाती है। अधिकांश मामले भाग लेने वाले संगठनों से एकत्र प्रारंभिक सामग्री पर आधारित होते हैं और संस्थान के कार्यक्रमों में आगे के अनुसंधान और शिक्षण सहाय के लिए नींव के रूप में उनका उपयोग किया जाता है।

 इनमें से कुछ मामले कर्मचारी विकास, प्रदर्शन प्रबंधन, अनुशासन प्रबंधन, ट्रेड यूनियन प्रबंधन और हड़ताल से निपटना आदि जैसे मानव संसाधन प्रबंधन के विशिष्ट क्षेत्रों से संबंधित मुद्दों के साथ निपटारा करते हैं। बहरहाल, ज्यादातर मामले के पास प्रतिवर्तन प्रबंधन, व्यापार रणनीति के मुद्दे, निजीकरण, छोटे उद्योग, गैर - सरकारी संगठनों और शुरुआत जैसे मुद्दों से निपटने के बहुकार्यात्मक और सामरिक उन्मुखीकरण रूपी झुकाव है।

इस क्षेत्र के अनुसंधान उत्पादन समीक्षित  और लोकप्रिय पत्रिकाओं, कक्षा चर्चा और प्रबंधन विकास कार्यक्रम द्वारा शैक्षणिक रूप और साथ ही साथ व्यवसायी समुदाय में प्रचारित किया जाता है। सक्रिय अन्वेषण वेब प्रौद्योगिकी और - लर्निंग के तरीकों का उपयोग करने के लिए अनुसंधान के निष्कर्षों का प्रसार प्रक्रिया में है।

एरिया सदस्य

प्राथमिक सदस्य

 

प्रोफेसर बीजू वर्की  Turn on JavaScript!

प्रोफेसर जेरोम जोसेफ  Turn on JavaScript!

 

प्रोफेसर मंजरी सिंह  Turn on JavaScript!

प्रोफेसर सुनिल माहेश्वरी  Turn on JavaScript!