Logo text

होम » कार्यकारी शिक्षा के क्षेत्र » कार्यकारी शिक्षा अवलोकन

कार्यकारी शिक्षा अवलोकन

 

भारतीय प्रबंध संस्थान, अहमदाबाद (आई आई एम-ए) भारत सरकार द्वारा गुजरात सरकार के सहयोग से, भारतीय उद्योग के रूप में 1961 में एक स्वायत्त संस्थान के रूप में स्थापित किया गया था । यह न केवल एक व्यापार स्कूल के रूप में स्थापित किया गया है, बल्कि एक प्रबंधन संस्थान के रूप में भी अपनी उत्कृष्टता के 51 साल से नेतृत्व कर रहा है। आईआईएमए एक ऐसा वैश्विक संस्थान बनना चाहता है जो ज्ञान की नयी सीमाओं का सृजन करते हुए प्रबंधकीय और प्रशासनिक प्रथाओं को प्रभावित करें और उत्कृष्टता तथा नैतिक मानकों के लिए उद्यमशील तथा सामाजिक रूप से संवेदनशील ऐसे प्रतिबद्ध नेतारूपी प्रबंधकों का विकास करे।


भारतीय प्रबंध संस्थान, अहमदाबाद (आई आई एम-ए) को भारत में सबसे अच्छे और एशिया के अग्रणी बिजनेस स्कूल के रूप में इसकी शैक्षणिक दृढ़ता तथा शीर्ष संघटन के कारण दुनिया के बेहतरीन संस्थानों में से एक के रूप में नामित किया गया है। 2008 में, यूरोपीय प्रबंधन विकास फाउंडेशन द्वारा (यूरोपीय गुणवत्ता सुधार प्रणाली – यूक्यूआईएस) इक्विस की मान्यता आईआईएमए को प्राप्त हुई जो 2012 में पुनःनवीनीकृत किया गया। प्रतिष्ठित संकायों के साथ, असाधारण छात्र-शिक्षक के अनुपात के साथ, 100 एकड़ के कैम्पस कि जिसमें विश्वस्तरीय सतत शिक्षा के अनुकूल वातावरण हैं – उसके साथ, आईआईएमए - भारतीय प्रबंध संस्थान, अहमदाबाद प्रबंधन शिक्षा में अंतरराष्ट्रीय मानकों को स्थापित किये हुए है।

संस्थान अपने हार्वर्ड के साथ पहले हुए सहयोग द्वारा मामलों की अध्ययन पद्धति से भारत में प्रबंधन शिक्षा के लिए अग्रणी रहा है। संस्थान एक छात्र केंद्रित समूह पद्धति में काम करने पर जोर देता है और छात्रों को उनके दृष्टिकोण में मौजूद गहन भागीदारी को उनके रुख का बचाव और प्रबंधन की समस्याओं के माध्यम से सोचने के लिए सीखने को प्रोत्साहित करता है।

आई आई एम-ए का भारत और अन्य विकासशील देशों के निजी और सार्वजनिक क्षेत्र में अपनी प्रबंधकीय व्यवहार से बेहतर सार्वजनिक नीतियों को अपनाने और सुधार लाने का मिशन है। ऐसा करने के लिए यह जोखिम उठाने वाले नेतारूपी प्रबंधकों को तैयार करता है जो नये मानक स्थापित करते हुए नई प्रबंधकीय प्रथाओं और उत्पादन अध्यापकों तथा शोधकर्ताओं के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय महत्व के नए विचार उत्पन्न करता है। जो उद्देश्यपूर्ण ग्राहक संगठनों के पैमानों को परामर्श के माध्यम से नई ऊचाइयों को प्राप्त करने में मदद करता है।


संस्थान निम्नलिखित प्रमुख कार्यक्रम आयोजित करता है: 

  प्रबंधन में दो साल का  स्नातकोत्तर कार्यक्रम (एम बी ए के समकक्ष)

  कृषि व्यवसाय प्रबंधन में दो साल का स्नातकोत्तर कार्यक्रम (एम बी ए  के समकक्ष)
 प्रबंधन में फैलो कार्यक्रम (पीएच.डी. के समकक्ष)
 
कार्यकारी अधिकारियों के लिए प्रबंधन में एक साल का  स्नातकोत्तर कार्यक्रम (पी जी पी एक्सएम बी ए के समकक्ष)

विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में शिक्षकों के लिए संकाय विकास कार्यक्रम

शीर्ष

प्रबंधन विकास कार्यक्रम : 

नेतृत्व परिवर्तन 

आई आई एम-ए में एक प्रबंधन विकास कार्यक्रम (एम डी पी) के साथ शैक्षिक गतिविधियों को शुरू करने का निर्णय एक सोचा समझा निर्णय था। आईआईएम-ए द्वारा प्रस्तुत यह पहला और विकसित कार्यकारी डिजाइन पाठ्यक्रम है जो अब 3-टीयर कार्यक्रम (3-टी.पी.) के रूप में लोकप्रिय हो गया है। तब से, आई आई एम-ए लगातार एम डी पी की सूची को जोड़ रहा है। जून 2012 से मई 2013 के शैक्षिक वर्ष के लिए, 50 से अधिक एमडीपी की योजना बनाई गई है जिनमें से 4 नये कार्यक्रम हैं। इस सूची में 3-टी.पी. और एम डी पी जैसे छोटे और मध्यम उद्यमों के लिए (एसएमईपी) प्रमुख एमडीपी भी शामिल हैं। ये प्रबंधन विकास कार्यक्रम, जोकि ज्यादातर सामान्य प्रबंधन कार्यक्रम (जीएमपी) के रूप में जाने जाते हैं उनकी प्रबंधकीय अवधारणाओं तैयार करने और कार्यात्मक क्षेत्रों में रणनीतियों को तैयार करने के लिए प्रासंगिक तकनीक में अंतर्दृष्टि प्रदान करने के उद्देश्य से कार्यात्मक और सामान्य प्रबंधन के दृष्टिकोण को एकीकृत कर निर्णय लेने के लिए एक समग्र दृष्टिकोण के साथ तैयार किए गए हैं।

भूटान के डीएचआई इन्फ़्रा के सहयोग में वर्ष 2011-12 में संस्थान द्वारा एक नयी पहल शुरू की गई जिसमें दो बार सामान्य प्रबंधन कार्यक्रम (जीएमपी) पेश किये गये थे। इस कार्यक्रम में भारत, भूटान और अन्य देशों से प्रतिभागी शामिल हुए थे।

सामान्य प्रबंधन कार्यक्रमों के अलावा, संस्थान के प्रबंधन विकास कार्यक्रमों की पेशकश के रूप में खुला नामांकन कार्यक्रमों के लिए व्यापार नीति, संचार, अर्थशास्त्र, वित्त एवं लेखाकरण, विपणन, संगठनात्मक व्यवहार,कार्मिक और औद्योगिक संबंध, उत्पादन और मात्रात्मक तरीके, सूचना प्रणाली, कृषि जैसे क्षेत्रों में सार्वजनिक प्रणाली, स्वास्थ्य और शिक्षा की जरूरतों का पता लगाने के लिए तैयार किए गए हैं। ये प्रबंधन विकास कार्यक्रम, सक्षम प्रतिभागियों की प्रबंधकीय अवधारणाओं और तकनीकों को तैयार करने में तथा कार्यान्वयन रणनीतियों के लिए अंतर्दृष्टि लाभ और उनके प्रभावी निर्णय लेने के प्रबंधकीय के समग्र परिप्रेक्ष्य में वृद्धि करते हैं।

भूमंडलीकृत दुनिया की बढ़ती चुनौतियों के जवाब में, यह संस्थान विश्व व्यापार के ड्यूक विश्वविद्यालय के फ्यूका स्कूल, इस्सेक बिजनेस स्कूल,पेरिस, सिंगापुर विश्वविद्यालय के लिए भारत और फ़्रान्स में विशिष्ट रूप से चरणबद्ध संयुक्त प्रबंधन विकास कार्यक्रमों की पेशकश द्वारा प्रसिद्ध बिजनेस स्कूलों के साथ सहयोग कर रहा है। संस्थान दुबई स्थित सेवारत कार्यकारियों के लिए दीर्घकालीन सामान्य प्रबंधन कार्यक्रम, खुदरा प्रबंधन कार्यक्रम, रणनीतिक आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन कार्यक्रम भी आयोजित करता है।  

वैश्विक कार्यक्रमों के एक भाग रूप, संस्थान ब्रिक्स ओन ब्रिक्स (बीआरआईसी) कार्यक्रम पेश करने जा रहा है जो कि एक कार्यकारी शिक्षा कार्यक्रम है और ब्रिक के चार प्रतिष्ठित संस्थानों द्वारा संयुक्त रूप से चलाया जायेगा।

आईआईएम-ए में, यह एक पाठ्यक्रम डिजाइन संशोधन, और नवीनता अध्यापन के साथ लगातार पाठ्यक्रम सामग्री के अद्यतन प्रयोग की परंपरा है। आईआईएम-ए में लगभग 100 जितने पूर्णकालिक प्राध्यापक हैं जो लगातार समन्वित अनुसंधान, शिक्षण और अनुप्रयुक्त काम करते हैं। शैक्षणिक उपकरण एक सहभागी शिक्षण माहौल तैयार करते हैं। हालांकि मामला विधि प्रमुख औजार है, यह समूह अभ्यास, कंप्यूटर आधारित अनुकरण खेल, व्याख्यान तथा चर्चाओं, भूमिका निभाने तथा परियोजनाओं के काम का प्रतिभागियों द्वारा प्रदर्शन करने में सहायक होता है ।

कॉर्पोरेट, सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्रों की प्रबंधन विकास कार्यक्रमों (एमडीपी) में प्रतिक्रिया बहुत उत्साहजनक है। आई आई एम-ए द्वारा आयोजित 1380 से अधिक प्रबंधन विकास कार्यक्रमों (एमडीपी) ने पिछले कुछ वर्षों में 49,250 से भी अधिक प्रबंधकों को लाभान्वित किया है।

शीर्ष