Logo text

होम » आईआईएमए के केस » आई आई एम ए मामला पद्धति



आई आई एम-ए केस पद्धति

पढ़ाई में केस पद्धति एक आकर्षक शिक्षणशास्त्र है जो कि पढ़ा की प्रक्रिया में सक्रिय रूप से प्रतिभागियों को शैक्षिक / प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल करता है। उन्हें बगैर अपना क्लासरूम छोड़े ही निर्णय निर्माणकर्ता, विश्लेषकों, परामर्शक, कई निगमों के प्रतिस्पर्धकों की भूमिका निभाने को मिलती है। इन भूमिकाओं को बारी बारी निभाने के कारण,  वे छात्र उपयोगी ज्ञान, कौशल, दृष्टिकोण,  और आदतों को (केएएसएच) विकसित करते हैं। बीसवीँ सदी के प्रारंभ में ही हार्वर्ड लॉ और व्यवसाय स्कूलों द्वारा इस पद्धति को विकसित किया गया था। केस नाम से जाना जाने वाला साधन ऐसा उपकरण है जो वास्तविक जीवन के प्रबंधकीय निर्णय लेने की स्थिति का निरूपण करता है। यह उपकरण केस व्यवसाय स्कूलों के संकायों और उनके सहयोगियों द्वारा विकसित किया गया था। प्रतिभागियों की इसमें तीन चरणों में भागीदारी रहती है क्लास से पहले, क्लास में और क्लास के बाद। प्रतिभागी इनमें टीम बनाकर या व्यक्तिगत रूप से कार्य करते हैं। आईआईएमए ने अपनी स्थापना से ही इस पद्धति को अपनाया हुआ है। हाल ही में आईआईएमए के संकायों ने केस शिक्षा के बारे में परिलक्षित करके भविष्य के दिशानिर्देश के लिए सोचा है।रिपोर्ट की नकल के लिए यहाँ क्लिक करें।  आईआईएमए की पत्रिका विकल्प में केस पद्धति के बारे में राउंड टेबल को अंजाम दिया गया है और इस पद्धति से संबंधित उपयोगी आलेखों का प्रकाशन किया है। रिपोर्ट की पहुँच के लिए यहाँ क्लिक करें।