Logo text

होम » संस्थान » परिसर » सुविधाएँ » भोजन » परिसर से बाहर के भोजनगृह

परिसर से बाहर के भोजनगृह

संस्कृति और व्यंजनों के लिए अहमदाबाद शहर ज़्यादा जाना जाता है। खाने के प्रति लोगों में इतनी उत्सुकता है कि नये अहमदाबाद को अधिकतर संख्या में खाद्यस्थानों व रेस्तरां के लिए जाना जाता है। यहाँ पर घर से बाहर भोजन मनोरंजन का सबसे लोकप्रिय रूप है और प्राचीन काल से ही इसे प्रचलित बना दिया गया है।
अतीत में, जब शहर पुराने अहमदाबाद तक ही सीमित था, तब घर से बाहर खाने के लिए मानेक चौक प्रधान क्षेत्र था। कभी मुझे बताया गया था कि वहाँ रेस्तरां और सड़क पर खाने की कोई कल्पना ही नहीं थी। फिर धीरे धीरे रेस्तरां की कल्पना होने लगी।

अहमदाबाद में घर का पकाया भोजन-गुजराती थाली से लेकर उत्तम स्वादिष्ट भोजन के लिए हर स्वाद को पूरा करता है। मुख्यतः यहाँ के शाकाहारी खाने में दाल-भात, रोटी, ढोकला, कढ़ी और थेपला के साथ गुजराती व्यंजनों का स्वाद अनूठा है। श्रीखंड और दूधपाक के सात्विक स्वाद और ऊँधियूं के अनोखे जायके यहाँ के भोजन में ओर भी आकर्षण जोड़ते हैं।
एक प्रामाणिक अनुभव के लिए अहमदाबाद में किसी भी गुजराती रेस्तरां में एक थाली का अनुरोध करें। उत्तर भारतीय मसालेदार जायके या स्वादिष्ट दक्षिण भारतीय भोजन के बीच चुनें। यदि आप चीनी व्यंजन, थाई भोजन या कॉनटिनेंटल स्वाद यहाँ लेना चाहते हैं तो पिज्जा और बर्गर को मत भूलना, अहमदाबाद के पास ये भी है। अगर असली अहमदाबाद का अनुभव लेना चाहते हैं तो लॉ गार्डन और सी जी रोड नगरपालिका बाजार के भोजनालयों में जाइए। और जब आप वहाँ पर जाते हैं तो बड़े देखिए कि प्यारे अमदावादी कितने चाव से आइसक्रीम खाते हैं। अगर आप अच्छे भोजन को चाहते हैं तो अहमदाबाद आपके लिए सही जगह है।

यहाँ अहमदाबाद में कुछ भोजनालयों की सिफारिश की है :

वी.एस. अस्पताल के निकट एलिस ब्रिज के पश्चिमी छोर पर स्थित “गोपी डाइनिंग हॉल” गुजराती थाली के लिए सबसे लोकप्रिय स्थानों में से एक है। सब कुछ खाया जा सके ऐसी गुजराती थाली 40 रुपये (दोपहर का भोजन) या 55 रुपये (डिनर) में उपलब्ध है।

एम्बेसी मार्केट विस्तार में दिनेश होल के पास आश्रम रोड़ के भीतर स्थित “संकल्प भोजनालय” का तो एक दौरा ही काफ़ी है। इस वातानुकूलित रेस्तरां ने भारत में चार फुट का सबसे लंबे डोसा बनाने का दावा पेश किया है और 'विश्व रिकार्ड गिनीज बुक' के लिए 25 फीट लंबा 'डोसा' बना कर अपना नाम दर्ज कराया है।

विशाला रेस्तरां शहर के दक्षिणी किनारे पर वासना में एक रोचक गुजराती गाँव के वातावरण का उदाहरण है। यहाँ, आप भारतीय फैशन में, फर्श पर बैठकर कठपुतली शो देखते हुए खाने का आनंद ले सकते हैं। यहाँ खाना सस्ता नहीं है, लेकिन खाना बहुत अच्छा है। दोपहर का खाना सुबह 11 बजे से 02:00 बजे दोपहर तक 125 रुपये की लागत से मिलता है और सायं 7 से 11 बजे तक 180 रुपये खर्च करने पर रात्रि भोजन मिलता है। मिठाई के लिए अतिरिक्त शुल्क होगा! दिलचस्प बर्तन संग्रहालय यहाँ स्थित है।

लॉ गार्डन में खाऊ गली एक स्वादिष्ट भोजन के लिए सड़क पर खाने के लिए खुशी से भोजन उपलब्ध करवाती है। यहाँ पारंपरिक गुजराती, काठियावाड़ी, सौराष्ट्र और राजस्थानी भोजन के अलावा व्यंजनों की भरमार उपलब्ध है।

सरखेज-गांधीनगर हाइवे पर स्थित गोरधन थाल अपनी तरह का एक सुप्रसिद्ध निर्गम है। गुजरात प्रवासन निकाय, मुंबई से यहाँ के निवासी प्रबंधक सनाथन पंचोली के अनुसार, "इसकी शुरूआत सादगी से राजस्थान के निवासी गोर्धन महाराज (गुजराती में महाराज) के नाम से की गई, जो कि परंपरागत रूप से अहमदाबाद के खानपान में घरेलू बन गया था। घर से बाहर खाना एक फैशन के रूप में माना जाने लगा है, यह देखकर उसके उत्तराधिकारियों ने उनके ब्रांड नाम को भुनाने का निर्णय लिया और एक लोकप्रिय गोर्धन थाल नामक रेस्तरां की स्थापना की।" इस रेस्तरां का माहौल और सजावट मूलतः रजवाड़ी दर्पण काम, मिट्टी काम तथा अन्य परंपरागत राजस्थानी आंतरिक सजावट की शैली है। वास्तविक तथ्य यह है कि ज़्यादातर ये 'महाराज' राजस्थान से आते हैं और प्रमाणित गुजराती व्यंजन ये तेजी से अनुकूलित बना लेते हैं। हालाँकि, पड़ोसी राज्यों के होने के नाते दोनों राज्यों के व्यंजन उनकी व्यक्तिगत लाक्षणिकता को खोये बिना एक दूसरे से प्रभावित हैं।

रेस्तरां की एक श्रृंखला - ओनेस्ट पाव भाजी - शायद पंजाबी, चीनी, महाद्वीपीय और प्रस्ताव पर दिलचस्प पाव भाजी रूपांतरों के साथ फास्ट फूड के लिए अहमदाबाद शहर में सबसे बड़ा नाम है।

लोकप्रिय पंजाबी रेस्तरां में स्वस्तिक क्रॉस रोड पर मिर्च मसाला, सी जी रोड पर टोमेटो, सरखेज-गाँधीनगर हाइ-वे पर 9 स्पाइस, फन रीपब्लिक में चटनीज़ और सी जी रोड पर कॉपर चिमनी शामिल हैं। संयोगवश सी जी रोड, नये अहमदाबाद में मुख्य वाणिज्यिक मार्ग है। यहाँ सभी ब्रांडेड दुकानें और व्यावसायिक परिसरों के होने के कारण शहर के आवास की नब्ज की तरह, मुख्य व्यापार क्षेत्र को बनाता है। सी जी रोड पर स्थित बावर्ची अपने 'बाल्टी पनीर' और गोता गाँधीनगर हाइ-वे पर स्थित साँझा चुल्हा 'मकाई की रोटी' और 'सरसों का साग' के लिए प्रसिद्ध हैं।
माँसाहारियों के लिए, विजय चार रास्ता पर स्थित अपर क्रस्ट - मुख्यतः अपने केक और पेस्ट्री के लिए जाना जाता दुकान है, लेकिन चिकन सैंडविच और सिजल्स जैसे उत्कृष्ट माँसाहारी भोजन भी वहाँ उपलब्ध है। ए एम ए के सामने स्थित कर्रीज़ में कुछ भारतीय शैली के माँसाहारी व्यंजन, विशेष कर ग्रील्ड मछली, मक्खन चिकन और तवा चिकन लोकप्रिय हैं। उसमानपुरा में खैबर फॉर्च्यून लैंडमार्क होटल के रूफ-टोप खैबर रेस्तरां में देर रात तक एक अद्भुत माहौल में सिर्फ माँसाहारी भोजन परोसा जाता है। जिनके पर्स में सीमित पैसे हैं उन लोगों के लिए, खानपुर में ला बेला, खमासा गली और भठियार गली में किफायती दर पर ताज़ा, मसालेदार माँसाहारी भोजन उपलब्ध है।