Logo text

होम » संस्थान » परिसर » आई आई एम ए में जीवन » एक दिन ... पी जी पी

एक दिन...पी जी पी

a 8.43 सुबह : छट्!  मैं अभी पाँच घंटे फिर से सोया होता!

नींद ... अब जब कि एक आकस्मिक धन प्राप्ति के लिए यहाँआईआईएम-ए में कुछ है। सुबह में जागने पर, जीवन और मृत्यु का मामला है। जब वर्ग के समय की बात आती है तो,बिना किसी चूक के, कमरे से कक्षा या मेस तक की भगदड़ में गड़बड़ करने के लिए एक साधारण विमवियन अपने पैसे के लिए एक रन खर्च सकता है।

8:45  सुबह: बेसब्री से इंतज़ार  

अतिशय शारीरिक श्रम के बाद हम सब कठिन मामले विश्लेषण के सत्तर मिनट की एक छोटी सी बात, वर्ग की उग्र भागीदारी और उदासीन बुलावे के लिए तत्पर हैं, जिससे कि दिमाग कड़ा बना लेते हैं। अंत में दस मिनट का ब्रेक अंत तक जाने से बचाये रखता है। एल के पी, एक साझा धुम्रपान का बड़ा या दो घूँट और यह थकान और  वापस थकने को तैयार।

1:00 मध्याह्न: सिर्फ पंक्चुएशन गुण...

तीन सत्राख्यान और एक सौ पृष्ठों के केसमैट्स और बाद में पाठ्यपुस्तक, फिर दोपहर का भोजन, ये सब वाइकिंग्स की सेना के सामने रक्षाहीन गाँव की तरह लगता हैं। यदि आपने सोचा है कि अब हमें साँस लेने की फुरसत है, तो आप जरा भी गलत नहीं हो सकते। नियमित रूप से अचानक क्वीज़ ली जाती है। कहीं भी 10 से 15 प्रतिशत वेटेज से मानी जाने वाली क्विज़ को हल्के से नहीं लिया जाता हैं।

दोपहर का भोजन पोने दो बजे होता है, जिसमें दो सौ अस्सी लोग जुटते हैं और इस कोलाहल में उनके शस्त्रों के रूप में बुद्धिमत्ता और अपने कैलक्युलेटर होते हैं। जब क्विज़ के पेपर वापस दिए जाते हैं, तब स्कूल के विद्यार्थीयों की  उत्सुकता अपने जवाब की जाँच के लिए होती है। जैसे ही प्रोफेसर पेपर रखते हैं, "क्विज़ेज?? वा ! बस शानदार कैरियर में पंक्चुएशन गुण ...!" से उत्तेजित हो जाते हैं।

4:00 दोपहर : मेरी दूसरी पुकार पोर्श... 

एक औसत व्यक्ति का अत्यंत कठिन कार्य छह घंटे के साप्ताहिक डोज़ में पूरा करने के बाद, विमवियन अब कम शैक्षिक प्रयासों के लिए चलता है। एक पॉर्श कारेरा की दोपहर के 4 बजे कोत दाज्यूर के साथ गर्जन की दहाड़ सुन कर हैरान मत होना। एनएफएस के लिए किसी विपणन मामले के रूप में गौर से स्पर्धा की जाती है। ऐसे ही बेडमिंटन और टेबल टेनिस मैचों के लिए हैं। सावधान लोग भी महत्वपूर्ण ऊर्जा का उपयोग करने में सोने से भी चूक जाते हैं।

a

9:00  रात्रि : समूहबद्ध विश्लेषण

रात्रिभोज के बाद: प्रमुख प्रश्न, प्रदर्शन और जल्दी से उड़ जाते घंटे। एक अच्छे दिन का काम इतना ही है। एक अच्छे पूर्ण दिन का काम समूह चर्चा, बहुत शत्रुता पूर्ण हो सकता है। साँझ ढलते ही एनआर में ग्रंथालय में कमरों में या परिसर में सौ-सौ गुट एकसाथ भीड़ भाड़ जमा देते हैं। इस के अलावा मामलों की प्रस्तुतियाँ की जाती हैं।

3:00  सुबह : 17,13,0,0,0... आह !  मैं थक कर चूर हो गया हूँ...

आखिरकार विमवियन अपनी गतिविधियों को समाप्त करने जा रहा है, जब दिन निकलने में कुछ ही समय बाकी है और थोड़े ही अंतराल के बाद लोगों के जागने का समय होगा। जब वह वापस अपने कमरे में कम इस्तेमाल किये बिस्तर में जाता हैं तब उसे पता चलता है कि वह पूरा उपभुक्त हो चुका है। वह यह भी जानता है, कि दिन का हर पल उसे एक प्रबंधक बनाने के उत्कृष्टता के बहुत करीब लिये जा रहा है, जिसमें शानदार सैकड़ों प्रबंधकों को हर वर्ष उत्तरोत्तर आईआईएम-ए द्वारा उत्पादित किया जा रहा है। और फिर भी, सबसे अच्छे प्रबंधक को अपने लिए सोने के कुछ घंटे की जरूरत है।नींद ... अब जब कि यहाँ आईआईएम-ए में कुछ आकस्मिक धन प्राप्ति होने जा रही है।...